अरविंद केजरीवाल की बड़ी घोषणा- रिटायर्ड कर्नल अजय कोठियाल को बनाया सीएम चेहरा, हिंदुत्व को लेकर भी किया बड़ा एलान

अरविंद केजरीवाल की बड़ी घोषणा- रिटायर्ड कर्नल अजय कोठियाल को बनाया सीएम चेहरा, हिंदुत्व को लेकर भी किया बड़ा एलान

देहरादून। उत्तराखंड के अपने दूसरे दौर पर मंगलावर को देहरादून पहुंचे आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक एवं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने फिर बड़ा एलान किया है। देहरादून में प्रेसवार्ता के दौरान उन्होंने आगामी विधानसभा चुनाव में रिटायर्ड कर्नल अजय कोठियाल को पार्टी से सीएम पद का चेहरा घोषित किया है।वहीं, उन्होंने दूसरी घोषणा करते हुए कहा कि हम उत्तराखंड को पूरी दुनिया के हिंदुओं के लिए आध्यात्मिक राजधानी बनाएंगे।

केजरीवाल ने कहा कि कुछ दिन पहले मनीष सिसौदिया देहरादून आए थे। उन्होंने कहा था कि इस पर हम जनता की राय जानेंगे। हमने प्रदेश की जनता से सुझाव लिए हैं। आप से सीएम कैंडिडेट किसे बनाना चाहिए, इस पर लोगों का बेहतरीन जवाब आया है। लोगों ने कहा कि जब से उत्तराखंड बना है तो कुछ पार्टी और नेताओं ने उत्तराखंड को लूट लिया। अब हमें पार्टियां नहीं, बल्कि देशभक्त फौजी चाहिए। बहुत बड़े स्तर पर लोगों ने कहा कि इन पार्टियों के भरोसे उत्तराखंड आगे नहीं बढ़ सकता। हमें कर्नल अजय कोठियाल ही चाहिए। यह निर्णय आप पार्टी ने नहीं बल्कि यहां की जनता ने लिया है।

कहा कि कर्नल कोठियाल वो शख्स हैं, जिन्होंने अपनी जान की बाजी लगाकर देश की रक्षा की। जब उत्तराखंड के नेता इस प्रदेश को लूट रहे थे, तब यह शख्स सीमा पर देश की हिफाजत में लगा था। कुछ साल पहले केदारनाथ आपदा आई थी। तब इस शख्स ने अपनी टीम के साथ मिलकर केदारनाथ का पुनर्निर्माण किया था, अब इन्होंने उत्तराखंड के नवनिर्माण का बीड़ा उठाया है। हम उत्तराखंड को देवभूमि कहते हैं। यहां इतने तीर्थ स्थान हैं। कितने देवी देवताओं का वास है यहां। पूरी दुनिया से हिन्दू यहां श्रद्धा के साथ दर्शन करने आते हैं। कर्नल कोठियाल को केदारनाथ में काम की वजह से लोग भोले का फौजी भी कहते हैं।

कोठियाल बोले- बड़ा चैलेंज, मुझे छह माह का समय दीजिए

वहीं, सीएम पद के चेहरे की घोषणा के बाद कर्नल कोठियाल ने कहा कि जब अरविंद केजरीवाल मुझे खुद जिम्मेदारी दी रहे हैं तो मेरे लिए यह काम आसान नहीं है। मैंने बहुत बड़े चैलेंज देखे हैं। फौज में फ्रंटलाइन में जाकर दुश्मन के छक्के छुड़ाए। यहां की फ्रंटलाइन है राजनीतिक फील्ड। मैं कोई नेता नहीं और न ही कोई ऐसी राजनीति जनता हूं। जब सरकार ने 2014 मार्च से हमें केदारनाथ पुनर्निर्माण का काम दिया था तब महिला शक्ति ने उस समय अपने बच्चों को बोला था कि अगर ये कर्नल केदारनाथ जाना चाहता है तो तुम क्यों नहीं। शुरू में मुझे नहीं पता था कि इसका नाम यूथ फाउंडेशन बनेगा लेकिन धीरे-धीरे युवाओं ने इसे आगे बढ़ा दिया।

रिटायर्ड कर्नल ने कहा कि मैं शादीशुदा नहीं हूं। अगर मैं आर्मी में होता तो शायद ब्रिगेडियर बन गया होता। मुझे यहां इस नई तरह की राजनीति में मजा आ रहा है। मुझे फेल मत होने देना आप पार्टी को उत्तराखंड में विकास का मॉडल तैयार करने के लिए इंडियन आर्मी की शार्ट सर्विस कमीशन की तरह बस छह माह का समय दीजिए।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Corona Live Updates