केदारनाथ के तीर्थ पुरोहितों ने पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत को बताया झूठा इंसान

रुद्रप्रयाग। केदारनाथ धाम में दो महीनों से देव स्थानम बोर्ड को भंग करने को लेकर तीर्थ पुरोहित समाज का आंदोलन जारी है। केदारनाथ के तीर्थ पुरोहितों ने अब बद्रीनाथ धाम कूच करने की चेतावनी देने के साथ ही उत्तराखण्ड के पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत को झूठा व्यक्ति करार दिया है। शुक्रवार को तीर्थ पुरोहितांे ने देव स्थानम बोर्ड के विरोध में बाबा केदार के भजन गाते हुये केदारनाथ मंदिर की परिक्रमाएं की और बाद में मंदिर से आधा किमी दूर हेलीपैड तक रैली निकालकर प्रदर्शन किया। विगत दो वर्ष पूर्व देवस्थानम बोर्ड का गठन हुआ है। इस बोर्ड में उत्तराखण्ड के चारों धामों सहित अन्य मठ-मंदिर भी शामिल किये गये थे। जब से बोर्ड का गठन हुआ है, तब से चारो धामों के तीर्थ पुरोहित बोर्ड का विरोध कर रहे हैं। केदारनाथ धाम में देव स्थानम बोर्ड के विरोध में तीर्थ पुरोहितों का आंदोलन पिछले दो महीनों से जारी है। तीर्थ पुरोहित कभी शीर्षासन आंदोलन तो कभी धरने पर बैठ रहे हैं। अब तीर्थ पुरोहितों ने आमरण अनशन करने की भी ठान ली है। गुरूवार को केदारनाथ धाम के तीर्थ पुरोहितों ने केदारनाथ मंदिर की परिक्रमाएं करके बोर्ड का विरोध जताया। इसके बाद तीर्थ पुरोहितों ने मंदिर से लेकर आधा किमी दूर हेलीपैड तक रैली निकालकर प्रदर्शन किया। केदारनाथ तीर्थ पुरोहित समाज के अध्यक्ष विनोद शुक्ला ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने यह कहकर देव स्थानम बोर्ड का गठन किया था कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने चारो धामों में बोर्ड का गठन करने की पैरवी की है, लेकिन प्रधानमंत्री ने बोर्ड के गठन को लेकर कोई पैरवी नहीं की है। उन्होंने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत झूठे इंसान हैं। चारों धामों के तीर्थ पुरोहितों का श्राप उन्हें लगेगा।

केदारनाथ के तीर्थ पुरोहितों ने पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत को बताया झूठा इंसान

पूर्व मुख्यमंत्री पर जबरन देव स्थानम बोर्ड का गठन करने का आरोप

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Corona Live Updates