केदारनाथ आने वाली यात्रियों की भीड़ को बैरियर लगाकर किया जा रहा है कंट्रोल


केदारनाथ आने वाली यात्रियों की भीड़ को बैरियर लगाकर किया जा रहा है कंट्रो
व्यवस्था के अनुसार भेजा जा रहा है यात्रियों को केदारनाथ
अब यात्री रात्रि दस बजे तक कर सकेंगे बाबा केदार के दर्शन

रुद्रप्रयाग। केदारनाथ यात्रा पर आने वाले यात्रियों की संख्या में लगातार बढ़ोत्तरी हो रही है। मात्र 6 दिन में ही एक लाख 13 हजार यात्री बाबा केदार के दर्शन कर चुके हैं। यात्रियों को बाबा केदार के दर्शन करने में कोई परेशानी न हो, इसके लिए रात के समय मंदिर खुलने का समय बढ़ा दिया गया है। अब सांयकालीन आरती के बाद भी रात दस बजे तक भक्त बाबा के दर्शन कर सकते हैं। इसके साथ ही भक्तों की संख्या को कंट्रोल करने के लिए भक्तों को सोनप्रयाग, गौरीकुंड, गुप्तकाशी, फाटा, रुद्रप्रयाग आदि स्थानों पर रोका जा रहा है।
केदारनाथ यात्रा इस बार रिकॉर्ड तोड़ रही है। किसी ने उम्मीद नहीं कि थी कि छः दिन में ही एक लाख यात्री बाबा के दर्शन कर सकेंगे। यात्रियों की बढ़ती संख्या को देखकर प्रशासन के सामने भी चुनौतियां खड़ी हो गयी थी, लेकिन अब प्रशासन ने यात्रा को कुछ हद तक कंट्रोल कर दिया है। यात्रियों की बढ़ती संख्या को देखते हुए रात के समय मंदिर खोलने का समय बढ़ा दिया गया है। इससे पहले सांयकालीन आरती के बाद मंदिर को बंद किया जाता था, लेकिन अब रात दस बजे तक मंदिर खुला रहेगा। मंदिर के देर तक खुले रहने से सभी भक्त बाबा के दर्शन आसानी से कर सकेंगे।
विओ 2 – यात्रियों की भीड़ को कंट्रोल करने के लिए अब यात्रियों को सोनप्रयाग और गौरीकुंड के अलावा रुद्रप्रयाग, गुप्तकाशी आदि स्थानों पर रोका जा रहा है। लिमिटेड संख्या में यात्रियों के जाने से यात्री आसानी से बाबा के दर्शन कर रहे हैं और लाइन भी जल्दी समाप्त हो रही है। जिलाधिकारी मयूर दीक्षित ने कहा कि अधिक से अधिक भक्तों को बाबा केदार के दर्शन कराने के लिए सुविधा के अनुसार यात्रियों को केदारनाथ भेजा जा रहा है और जगह जगह बैरियर लगाकर यात्रियों को सुरक्षित स्थानों पर रोका जा रहा है। उन्होंने कहा कि छठवें दिन ही केदारनाथ यात्रा ने एक लाख का आंकड़ा पार दिया है। यह स्थानीय लोगों के लिए सुखद है। कहा कि केदारनाथ यात्रा पर आने वाले तीर्थयात्री पूरी तैयारी के साथ केदारनाथ धाम पहुंचे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Corona Live Updates